India

News Relating to India

सोनागाछी रेड लाइट एरिया में इस बार दुर्गा पूजा की धूम !

:उत्तरी कोलकाता के सोनागाछी में इस बार दुर्गा पूजा की धूम है। यह एशिया के सबसे बड़े रेड लाइट एरिया कहलाता है ,यहां रह रहीं सेक्स वर्कर्स को विगत  पांच पांच वर्षों में पहली बार ये मौका मिला है,जब वो इस उत्सव को धूमधाम से मना रही हैं।

 

छात्राओं की पिटाई से भड़का दंगा, परीक्षाएं रद्द !

 छात्राओं की बीएचयू में पिटाई के पश्चात् गर्माए माहौल के कारण वाराणसी के सभी कॉलेज सोमवार को बंद हैं। विभिन्न संगठनों द्वारा लगातार धरना-प्रदर्शन के कारण स्टूडेंट्स की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं। कुछ विभाग में सेमेस्टर परीक्षाएं कैंसिल हो गई हैं।बीएचयू के छात्र-छात्राओं की पढ़ाई भी प्रभावित हो रही है और उन्हें अत्यंत दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है।

भारत ने इंदौर में तमाम रिकॉर्ड ध्वस्त कर जीती कंगारुओं से सीरीज !

को इंदौर में खेले तीसरे वनडे में  भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 5 विकेटों से हराकर पांच मैचों की सीरीज पर पूरी तरह से कब्जा कर लिया है । भारत ने यह मुकाबला अपने नाम कर सीरीज में अपराजेय बढ़त बनाई और इस जीत के दौरान कई रिकॉर्ड भी बनाए।भारत ने पहली बार किसी सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को लगातार तीन मैचों में हराया। इसके अलावा यह वनडे में उसकी कंगारूओं पर लगातार चौथी जीत है। भारत के लिए इंदौर का होलकर स्टेडियम ऐसा पहला मैदान बन गया जहां उसने शुरुआती 5 वनडे जीते। टीम इंडिया की इस जीत के साथ ही विराट कोहली ने अपने नेतृत्व में टीम इंडिया को लगातार सबसे अधिक (9) मैचों में जीत दिलाने महेंद्रसिंह धोनी के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली।

राजधानी दिल्ली की जॉर्ज पंचम ने रखी आधारशीला !

दिल्ली : देश की राजधानी दिल्ली को बनाने का ऐलान 12 दिसंबर 1911 को हुआ था।तत्कालीन भारत में अंग्रेजी हुकूमत के शासक किंग जॉर्ज पंचम ने दिल्ली दरबार में इसकी आधारशीला रखी थी। इसके उपरांत ब्रिटिश आर्किटेक्ट सर हरबर्ट बेकर तथा सर एडविन लुटियंस ने नए शहर की योजना बनाई थी। इस योजना को पूरा करने में दो दशक लग गए। इसके पश्चात् ही 13 फरवरी 1931 को आधिकारिक रूप से दिल्ली देश की राजधानी बनी। दिल्ली से जुड़ी महत्वपूर्ण और पांच रोचक बातें इस प्रकार अपना यहां महत्त्व दर्शाती हैं।1.

मच्छर काटने से नहीं होगा डेंगू !

देश में से डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया को पूरी तरह से खत्म करने भारत सरकार ने 2027 तक का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसके लिए जबलपुर के आईसीएमआर(इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) के एनआईआरटीएच(सेंटर नेशनल इंस्टिट्यूट फॉर रिसर्च इन ट्राइबल हेल्थ) में अनुसंधान आरम्भ हो गया है।

Pages