India

News Relating to India

महिला पत्रकार की किताब ने खोले रामदेव के राज !

दिल्ली : जिस तरह धीरूभाई अम्बानी के कारनामों पर लिखी किताब ‘द पोलियस्टर प्रिंस’ देश  के बुक स्टाल्स से गायब हो गई। उसी तरह बाबा रामदेव पर लिखी गई नई किताब ‘गॉडमैन टू टाइकून’ भी बाजार से जल्द लापता हो सकती है। 

कई साल से बाबा रामदेव पर रिसर्च कर रहीं  अंग्रेजी पत्रकार प्रियंका पाठक नारायण ने इस किताब में बाबा के वो भेद खोलें हैं जो पतंजलि के समर्थकों को स्वीकार नहीं  होंगे। प्रियंका कहती हैं कि इस किताब के लिए सबूत जुटाते  वक़्त उन्हें ऐसा महसूस हुआ किया कि हादसे बाबा का लगातार पीछा कर रहे थे। उनके फर्श से अर्श तक पहुँचने के सफर में हादसों का अहम किरदार है।

न जाने क्यों जिस गुरु से बाबा रामदेव  कुछ भी गुर सीखते वो ही गुरु उनकी अद्भुत जीवन यात्रा से गायब हो जाता है। बहरहाल इससे पहले की ये किताब गायब हो, आइये इसमें किये गए  खुलासों पर गौर करें।

कचरे के पहाड़ में समाई गाड़ियां, दो की हुई मौत !

क्रवार को राजधानी दिल्ली में बारिश के बाद एक बड़ा हादसा हो गया। यहां के गाजीपुर इलाके में कचरे का एक बड़ा ढेर धंस गया जिसके कारण    कई गाड़ियां इसकी चपेट में आ गईं, वहीं एक बच्ची सहित दो की मौत हो गई।

उमा भारती सहित मोदी मंत्री मंडल से 6 मंत्रियों के इस्तीफे !

अपनी टीम इंडिया में पी एम नरेंद्र मोदी बदलाव करने जा रहे हैं। किन्तु  इस मंत्री मंडल में फेरबदल का दिन और तारीख  अहम है, क्योंकि 6 से 19 सितंबर के बीच श्राद्ध और पितृ पक्ष रहेगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार  इस दौरान सभी तरह के शुभ काम वर्जित रहते हैं।

राजनीति और इसमें बढ़ता बाबाओं का बोलबाला !

राम रहीम के 50वें जन्मदिन के मौके पर 15 अगस्त को हरियाणा भाजपा के कई नेता शामिल हुए। एक नेता की ओर से 5.1 मिलियन रुपये खेल सुविधाओं में बढ़ोत्तरी के लिए दिए गए। राम रहीम के टीवी नेटवर्क पर प्रसारित इस वीडियों से इसकी जानकारी मिली। गुरु के वकील की तरफ से कहा गया कि राम रहीम की रिहाई के लिए आगे पैरवी की जाएगी। हालांकि इस घटना के बाद बाबा का सपोर्ट बेस कम हो रहा है।परन्तु कई लोग उसे अभी भी भगवान मान रहे हैं।

पाँच राज्यों की विधानसभाओं का ग्लोरी न्यूज़ एक्ज़िट पोल !

देश के पाँच राज्यों के विधान्सभाके लिए निर्वाचन प्रकिर्या के सभी चरणों का मतदान पूर्ण हो चुका है | जिसका परिणाम 11मार्च 2017को किया जाना है | किन्तु चुनाव पूर्व ग्लोरी न्यूज़ ने मतदाताओं से रुझान लेकर जो रिपोर्ट तैयार की थी |वही आप सब के सामने ग्लोरी न्यूज़ एक्जिट पोल के रूप में सार्वजानिक की जा रही है |

Pages