कोविड नियंत्रण के निर्देश प्रशासन और पुलिस सख्ती से लागू करेगी !

अशोकनगर : शनिवार को कोरोना संक्रमण के प्रकरणों में आई बढ़ोत्तरी को दृष्टिगत रखते हुए जिले में कोविड-19 संक्रमण के रोकथाम के लिए नई रणनीति तैयार करने हेतु कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन समूह की बैठक कलेक्टर अभय वर्मा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक में विधायक चंदेरी गोपाल सिंह चौहान,पुलिस अधीक्षक रघुवंश सिंह भदौरिया,अपर कलेक्टर डॉ अनुज रोहतगी,सांसद प्रतिनिधि,पूर्व विधायक गण,समाज सेवी तथा आपदा प्रबंधन समूह के सदस्य भी उपस्थित रहे। कलेक्टर अभय वर्मा ने सभी उपस्थित सदस्यों एवं जनप्रतिनिधियों के महत्वपूर्ण सुझावों पर सर्वसम्मति से प्रस्ताव प्राप्त किए ।प्रस्ताव स्वीकृति हेतु राज्य शासन को प्रेषित किए ।
विवाह एवं अन्य समारोह में अधिकतम 100 व्यक्ति हो सकेंगे शामिल:-

उप निर्वाचन के आंकड़ों से भाजपा सरकार का बचना संदिग्ध !

भोपाल : म.प्र. के राजनैतिक इतिहास में अभी तक का सबसे बढ़ा उल्टफेर तथा एक साथ 22विधायकों के सामूहिक रुप से अपने नेता ज्योतिरादित्य सिधिंया के समर्थन में सत्तारूढ़ दल कॉग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल होने के कारण मार्च के महिने में कॉग्रेस की सरकार अल्पमत में आ गई थी ।जिसके कारण सीएम कमलनाथ ने अविलम्ब अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया था।इसके पश्चात शिवराज सिंह चौहान भाजपा की सरकार बनाते हुए चौथी बार सीएम बने। उल्‍लेखनीय है कि मध्‍य प्रदेश में सत्‍ता के ल‍िहाज से इन 28 सीटों पर उपचुनाव काफी महत्‍वपूर्ण माने जा रहे हैं। इनसे ही राज्‍य की शिवराज सिंह चौहान सरकार और कांग्रेस अध्‍यक्ष कमल नाथ का राजनीतिक भविष्‍य तय होगा।मध्‍य प्रदेश में ग्‍वालियर, डबरा, बमोरी, सुरखी, सांची, सांवेर, सुमावली, मुरैना, दिमनी, अंबाह, मेहगांव, गोहद, ग्‍वालियर पूर्व, भांडेर,करैरा, पोहरी, अशोकनगर, मुंगावली, अनूपपुर, हाटपिपल्‍या, बदनावर, सुवासरा, बड़ा मलहरा, नेपानगर, मांधाता, जौरा, आगर और ब्‍यावरा सीट के लिए उपचुनाव कराए गए हैं।

तेजस्वी की आँधी से हो सकती है एनडीए धराशायी !

पटना: विधानसभा चुनाव 2020 बिहार राज्य में इस बार तेजस्वी यादव की आंधी चलती हुई दिखाई दे रही है. एग्जिट पोल के अनुसार, इस बार महागठबंधन बिहार में पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रहा है।ग्लोरी न्यूज एग्जिट पोल के अनुसार, बिहार में *महागठबंधन* को 140 से 161 तक सीटें मिल सकती हैं. जबकि *एनडीए* 100 से भी कम सीटों पर सिमट हुआ दिख सकता है ।दूसरे शब्दों में यह कह सकते हैं कि नीतीश कुमार को बिहार की सत्ता से विदाई होते नजर आ रही है।
एग्जिट पोल के अनुसार, इस बार एनडीए सिर्फ 68 से 91 सीटों के बीच में सिमट सकती है। जबकि जदयू को सबसे अधिक नुकसान हो रहा है, नीतीश कुमार की अगुवाई में एनडीए को चुनाव लड़ना अत्यंत भारी पड़ता स्पष्ट दिख रहा है और नीतीश की सत्ता से विदाई होनी निश्चित लग रही है। खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा था कि ये उनका अंतिम विधानसभा चुनाव हो सकता है! बिहार में 10 नवंबर को परिणाम घोषित किए जाने हैं।

*एग्जिट पोल के अनुसार किसे कितनी सीट:-* • *महागठबंधन* को 139 से 161 सीटें,
• *एनडीए* को 68 से 91 सीटें , • *लोजपा* को 3 से 5 सीटें ,• *GDSF* को 3 से 5 सीटें,
• *अन्य* को 3 से 5 सीटें ।

आखिर क्या और क्यों होती प्लूरिसी - डॉ.डी.एस.संधु

प्लूरिसी के कारण और लक्षण क्या हैं यह अरविंद के परिजनों के साथ साथ उन सब अपने पाठकों से सांझा कर रहा हूँ, जो समयानुसार इस को जान सके कि प्लूरिसी क्या और क्यों होती है तथा इससे बचने कैसे और क्या सावधानी रखनी आवश्यक है। ताकि लोगों को अरविंद के परिजनों की तरह शारीरिक,मानसिक तथा आर्थिक परेशानियों से नहीं जुझना पड़े। हाँ तो लीजिए आप सब के लिए जानकारी प्रस्तुत है कि आखिर प्लूरिसी क्या और कैसे होती है ! 

Pages