Breaking News

सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने पर पार्टी में शुरू हुआ आरोप - प्रत्यारोप !

दिल्ली /भोपाल :- पूर्व कोंग्रेस से गुना सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद पार्टी के अंदर घमासान मचा हुआ है। एक तरफ जहां कांग्रेस के कई नेता सिंधिया को खुलेआम कोस रहे हैं। वहीं कई ऐसे भी कांग्रेसी नेता हैं जो दबी जुबान से सिंधिया के कदम का समर्थन कर रहे हैं। मध्यप्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता मुकेश नायक ने बातचीत के दौरान दावा किया कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लोकसभा चुनाव हारने के बाद पांच दिनों तक खाना नहीं खाया था। पार्टी में गुटबाजी से वे बहुत दुखी थे। जिसके बाद उनको मनाने के लिए वसुंधरा राजे और यशोधरा राजे उनके घर गई थीं।दिग्विजय की वजह से छोड़ी कांग्रेस:-मुकेश नायक ने दावा किया कि सिंधिया ने दिग्विजय सिंह की वजह से कांग्रेस से इस्तीफा दिया। मध्यप्रदेश कांग्रेस में इतनी गुटबाजी है जिसमें कांग्रेस कहीं बची ही नहीं है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि वे कांग्रेस में ही बने रहेंगे।सिंधिया के भाजपा में शामिल होने पर जताई निराशा:-कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील सलमान खुर्शीद ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने पर निराशा जाहिर की। उन्होंने कहा कि सिंधिया मेरे प्रिय मित्र थे और उनके पिता भी मेरे पिता के घनिष्ट मित्र थे। मैं वास्तव में दुखी हूं कि वे दूसरी पार्टी में चले गए। अगर उन्होंने मुझसे बात की होती तो मुझे इसके बारे में पता होता। कई लोग हैं असंतुष्ट:- कांग्रेस नेता नगमा ने भी सिंधिया के पार्टी छोड़ने पर पार्टी को चेताया है। सचिन पायलट की बात का समर्थन करते हुए नगमा ने ट्वीट किया है कि हम में से बहुत से लोगों में असंतोष है। ऐसा लगता है कि पार्टी इसे देखने में पूरी तरह से विफल है। नगमा ने ट्वीट में लिखा, इसलिए यह आश्चर्यजनक नहीं है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी छोड़ दी, और भी कई लोग ऐसा ही करेंगे। एक समय के बाद यह विचारधारा के बारे में नहीं बल्कि किसी के प्रयासों को मान्यता और उसे सही स्थान न देने को लेकर हो जाता है। सिंधिया का पार्टी छोड़ना दुर्भाग्यपूर्ण :-राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने सिंधिया के पार्टी छोड़ने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, 'यह देखना दुर्भाग्यपूर्ण है कि ज्योतिरादित्य ने कांग्रेस पार्टी छोड़ दी है। काश चीजों को पार्टी के अंदर बातचीत के जरिए सहयोगपूर्वक तरीके से सुलझा लिया गया होता।'