न्यूजीलैंड के हाथों भारत की शर्मनाक हार

 

नागपुर:  न्यूजीलैंड के हाथोंटी-20 वर्ल्ड कप के पहले ही मैच में मिली शर्मनाक हार के बाद भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि बल्लेबाज पिच को सही तरह से समझ नहीं पाए जिस कारण टीम को करारी शिकस्त खानी पड़ी। बल्लेबाजों के आत्मघाती प्रदर्शन से भारत को न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 वर्ल्ड कप के उद्घाटन मुकाबले में मंगलवार को 47 रन की शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा जिससे पूरा देश एकबारगी सकते में आ गया।भारत ने न्यूजीलैंड को सात विकेट पर 126 रन के सामान्य स्कोर पर रोका था लेकिन बल्लेबाजों ने ऐसा आत्मघाती प्रदर्शन किया कि पूरी भारतीय टीम 18.1 ओवर में 79 रन पर ढेर हो गई।दूसरी तरफ टी-20 वर्ल्ड कप में जीत से आगाज करने वाले न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने इस जीत पर खुशी जताते हुए जीत का श्रेय अपने गेंदबाजों को दिया। कप्तान विलियमसन ने कहा, इस जीत से मैं बहुत खुश हूं। विकेट मुश्किल था।हम कुछ और रन बनाना चाहते थे लेकिन इस विकेट पर कोई भी लक्ष्य हासिल करना मुश्किल होता। हम शुरु से ही आक्रामक होना चाहते थे। हमने कोशिश की लेकिन इसे बेहतर तरीके से कर सकते थे। हमारे गेंदबाज यह अच्छी तरह से समझ गए थे कि विकेट लेना ही सबसे बेहतर तरीका है। उन्होंने संयम बनाए रखा और दबाव बनाया।वहीं धोनी ने मैच समाप्ति के बाद कहा, यह कम स्कोर वाला विकेट था और मुझे लगता है कि हमने उन्हें अच्छे स्कोर पर रोक दिया लेकिन बल्लेबाजों ने हमें निराश किया। बल्लेबाज पिच को अच्छी तरह से समझ नहीं पाए।शाट का चयन अच्छा नहीं था जिस कारण आने वाले बल्लेबाजों पर दबाव बनता गया। उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड की टीम ने परिस्थितियों का अच्छा फायदा उठाया। कप्तान धोनी ने कहा, न्यूजीलैंड टीम के गेंदबाजो ने बेहतरीन गेंदबाजी की और पिच की परिस्थितियों का अच्छा फायदा उठाया। लेकिन हम परिस्थितियों से तालमेल बिठाने में असमर्थ रहे। मध्यक्रम में एक भी साझेदारियां नहीं हुई।हम पिच पर समय बिता कर और पिच को अच्छे से समझ कर बल्लेबाली कर सकते थे। लेकिन बल्लेबाजों ने हमें निराश किया।