उपचुनाव परिणाम निर्धारित करेगा कितनों का भविष्य !

अशोकनगरमुंगावली कोलारस तथा उपचुनाव के पश्चात् ही भारतीय जनता पार्टी प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान का भी भविष्य तय होगा।संगठन की दशा-दिशा होगी तय :-भाजपा नेताओं का मानना है कि उपचुनाव के परिणामों के आधार पर ही विधानसभा चुनाव की स्क्रिप्ट लिखी जाएगी। यह उप चुनाव भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चौहान का भविष्य भी निर्धारित करेगी कि उनको ही अगले चुनाव की बागडोर दी जाये या कुछ अलग से सोचा जाये जिससे मिशन 2018 की वैतरणी में पार्टी को डूबने से बचाया जा सके।उपचुनाव और नगरीय निकाय की हार बने चुनौती :-अटेर-चित्रकूट उपचुनाव की हार और नगरीय निकाय चुनाव में मिली पराजय के बाद भारतीय जनता पार्टी के लिए कोलारस व मुंगावली उपचुनाव भी भारी चुनौती साबित हो रहे हैं। पार्टी सूत्रों का मानना है कि दोनों उपचुनावों के परिणामों पर ही संगठन की आगे की रणनीति तय होगी।चुनाव परिणाम निर्धारित करेगा कितनों का भविष्य :-चुनाव के हार जीत का अंतर कई नेताओं का भविष्य तय करेगा। पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान का भविष्य भी इन उपचुनाव के परिणामों के बाद तय होगा । पार्टी नेताओं का मानना है कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भापाल प्रवास पर कहा था कि चौहान का कार्यकाल 2019 तक रहेगा, लेकिन परिणाम विपरीत आए तो हाईकमान प्रदेशाध्यक्ष बदल सकता है।इतना ही नहीं अशोकनगर जिले में भी भाजपा जिलाध्यक्ष और जिले की कार्यकारणी भी इसके निशान देहि पर हैजिसके मुंगावली में उपचुनाव की इन दिनों मारामारी अपने चरमोत्कर्ष और यह इस चुनाव में मतदाताओं को कितना रिझा पते हैं यह तो आने वाला वक्त ही बतायेगा और इसके लिए 28 फरवरी 2018 तक दिल थामकार इंतजार करना होगा।