कृषक उद्यमी योजना का लाभ उठाएं किसान पुत्र - पुत्री : डॉ.मंजू शर्मा कलेक्टर

अशोकनगर : जिले की कलेक्टर डॉ.मंजू शर्मा ने बैठक में जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना के अंतर्गत किसान पुत्र-पुत्रियों के लिए शासन द्वारा नवीन उद्यमों की स्थापना हेतु नीति निर्धारित की गई है। प्रथम आये प्रथम पाये:-इन परियोजनाओं में अर्हता एवं वित्तीय सहायता का प्रमुख रूप से प्रावधान है।उद्यमों की स्थापना हेतु कृषि आधारित परियोजनाएं जैसे एग्रो प्रोसेसिंग, फूड प्रोसेसिंग, कोल्ड स्टोरेज, मिल्क प्रोसेसिंग, पशु आहार, पॉल्ट्रीफीड, कस्टमहायरिंग सेंटर, दालमिल, राईसमिल, फ्लोरमिल, मसाला निर्माण, बीजग्रेडिंग आदि उद्यमों को लगाने के इच्छुक किसान पुत्र-पुत्रियां वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी, बीटीएम आत्मा से सम्पर्क कर योजना का लाभ प्रथम आये प्रथम पाये के अनुसार ले सकते हैं।कलेक्टर डॉ.मंजू ने सभी पात्र किसान पुत्र -पुत्रियों से उक्त योजना का भरपूर लाभ उठाने की भी अपील की है। हितग्राहियों को मिलेगा योजना का लाभ :-योजना के लिए शैक्षणिक योग्यता न्यूनतम 10वीं पास। आयु 18 से 45 वर्ष, जो आयकर दाता न हो, कृषि भूमि होना चाहिए। मार्जिन मनी सहायता परियोजना के पूंजी लागत का 15 प्रतिशत, बीपीएल हेतु परियोजना के लागत का 20 प्रतिशत, ब्याज अनुदान पूंजी लागत का 5 प्रतिशत प्रति वर्ष, महिला उद्यमी हेतु 6 प्रतिशत प्रति वर्ष अधिकतम सात वर्षों तक। गारंटी फीस प्रचलित दर से अधिकतम सात वर्षों तक।

 

Tags: