सीपीएम मनाएगी 'रामायण महीना' !

दिल्‍ली : सीपीएम (मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ) केरल राज्‍य समिति ने 'रामायण महीना' मनाने का निर्णय लिया है। अब मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी भगवान राम की शरण में जाती नजर आ रही है। सीपीएम की सत्‍ता अब सिर्फ एक राज्‍य केरल में रह गई है। पार्टी 25 जुलाई को रामायण पर एक सम्मेलन आयोजित कर रही है। रामायण महीने को बूथ स्‍तर तक मनाने के लिए पूरे राज्‍य में रामायण पर कक्षाएं आयोजित करने का फैसला लिया गया है। पार्टी के छात्र विंग एसएफआई(स्‍टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया) के पूर्व अध्‍यक्ष और अब पार्टी की राज्य समिति के सदस्य शिवदासन को इस आश्चर्यजनक मिशन का प्रभार दिया गया है।रामायण पर करेंगे विशेषज्ञ व्याख्या तथा बहस:- मलयालम मीडिया से प्राप्त रिपोर्ट अनुसार, पार्टी रामायण पर व्याख्या और बहस आयोजित कराने की जिम्‍मेदारी राज्‍यभर के शिक्षकों और संस्कृत विशेषज्ञों को सौंपेगी। बता दें कि विगत तीन सालों से सीपीआईएम श्री कृष्ण जयंती पर राज्यभर में रैलियों का संचालन कर रही है। इन सभी प्रयासों के जरिए वामपंथी प्रदेश में आरएसएस के बढ़ते प्रभाव का सामना करने के लिए कर रही है। आरएसएस पिछले पांच दशकों से केरल में कृष्‍ण जयंती पर रैलियों का आयोजन कर रही है। आरएसएस, वामपंथियों पर नास्तिक होने का भी आरोप लगाते रहे हैं,रामायण मास के जरिए सीपीएम इस छवि से भी बाहर निकलने का भी प्रयास कर रही है।सीपीआई के नेता पिछले कुछ महीनों से इस उद्देश्य के लिए संस्कृत शिक्षकों की भर्ती और खोज कर रहे थे। शिवादासन रामायण माह की तैयारियों में काफी दिनों से जुटे हुए हैं। वह रामायण से जुड़ी सामग्री को मलयालम भाषा में उपलब्‍ध करा रहे शिक्षकों के साथ समन्‍वय कर रहे हैं। हालांकि ये भी सुनने में आ रहा है कि रामायण के विभिन्न संस्करणों को प्रस्तुत करने के लिए पार्टी के अंदर बहस चल रही है।पार्टी सदस्यों का मंदिर समितियों में भी प्रवेश:- सीपीआई (एम) कार्ड धारण करने वाले सदस्यों को 1980 के दशक तक मंदिरों में जाने की अनुमति नहीं थी। हालांकि, उन दिनों नेताओं की पत्नियां जरूरी मंदिर जाया करती थीं। धीरे-धीरे नेताओं ने भी मंदिरों में जाना शुरू किया। तब पार्टी ने पाया कि आरएसएस और कांग्रेस नेता मंदिर समितियों का नेतृत्व कर रहे हैं।एक लंबी बहस के बाद ये तय हुआ कि मंदिर भी एक ऐसी जगह है, जहां काफी लोग आते हैं। इसलिए पार्टी के सदस्‍यों को ऐसी जगहों पर भी जाना चाहिए।तब नियम बनाया गया कि पार्टी के सदस्यों को मंदिर समितियों में भी प्रवेश करना चाहिए।