कैदियों की सुरक्षा एवं स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखा जाए -कलेक्टर डॉ.मंजू शर्मा

अशोकनगर : जिला जेल में सम्बन्ध में विगत कुछ दिनों से कैदियों के बिच घटित कुछ घटनाओं का लगातार मीडिया और सोशल मीडिया की सुर्खियाँ बटोरते समाचारअपने अपने तरीकों से आरहे थे।इन समाचारों की सत्यता और गंभीरता को जानने केलिए कलेक्टर डॉ.मंजू शर्मा ने जिला कारागार का आकस्मिक निरीक्षण किया ।अशोकनगर जेल में बंद कै‍दियों को नियमानुसार सभी आवश्‍यक सुविधाएं एवं सुरक्षा उपलब्‍ध कराने की सुनिश्‍चित व्यवस्था करने के स्पष्ट निर्देश बुधवार कोकलेक्टर डॉ.मंजू शर्मा निरीक्षण के दोरान  जिला जेल अधिकारियों को दिए। जेल निरीक्षण के दौरान एस.डी.एम. नीलेश शर्मा, जेल अधीक्षक आर.आर.सिंह तथा जेलर एस.ए.सिददीकी भी पूरे समय साथ थे। कैदियों से सम्बंधित बातों की ली जानकारी स्‍वरोजगार स्‍थापित करने प्रशिक्षण दिया जाये कलेक्टर डॉ.शर्मा ने निर्देशित किया कि जेल में बंद कैदियों को स्‍वरोजगार स्‍थापित करने हेतु सिलाई तथा मोटर वाईडिंग का प्रशिक्षण श्रेष्‍ठ प्रशिक्षकों द्वारा दिलाया जाए। उन्‍होंने सभी बैरिगों में जाकर कैदियों से सुरक्षा व्‍यवस्‍था, इलाज, भोजन, पेयजल तथा शौचालय व्‍यवस्‍था के बारे में पूछा। कलेक्‍टर ने जेल के अंदर पाकशाला, कैदियों के बैरिग, मंदिर सैक्‍टर का निरीक्षण किया। जेल स्‍टॉफ लगा‍तार गश्‍त करे; कैदियों की आपस में अप्रिय घटना घटित न हो, इस हेतु सतत निगरानी बनाई रखी जाए तथा गश्‍त बढाई जाए। जेल स्‍टॉफ लगा‍तार भ्रमण करना सुनिश्चित करे। इस दौरान जेलर द्वारा बताया गया कि जेल में कुल 368 पुरूष कैदी बंद है, जिनमें 48 कठोर बंदी, 316 विचाराधीन तथा 04 सामान्‍य बंदी शामिल हैं। बंद कैदियों को निर्धारित मीनू अनुसार नाश्‍ता, चाय तथा भोजन दिया जाता है। प्रतिमाह डॉक्‍टर मनीष चौरसिया द्वारा कैदियों का स्‍वास्‍थ्‍य परीक्षण किया जाता है। शिक्षक हरिसिंह कुशवाहा द्वारा कैदियों को पढाया जाता है।
Tags: