भाजपा स्थापना दिवस पर शत्रुध्न सिन्हा ने छोड़ी भारी मन से भाजपा !

दिल्ली:शनिवार को भारतीय जनता पार्टी सांसद और फिल्म अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी इस पार्टी को उसके स्थापना दिवस के मौके पर पार्टी के इस महोत्सव को करारा झटका देते हुए आज अलविदा करते हुए कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी महासचिव के.सी. वेणुगोपाल और रणदीप सिंह सुरजेवाला की मौजूदगी में देश की सबसे पुरानी पार्टी कॉग्रेस में शामिल हो गए। इस अवसर अपने विचार व्यक्त करते हुये सिन्हा ने कहा कि कांग्रेस उन्हें जनता, समाज और देश की सेवा करने का मौका देगी। उन्होंने पहले ट्वीट किया था, "यह बहुत भारी मन और अपार पीड़ा की बात है कि आखिरकार मैंने छह अप्रैल को भाजपा के 'संस्थापना दिवस' के मौके पर अपनी पुरानी पार्टी को अलविदा कह दिया और किन कारणों से, यह सबको पता है।" कुछ लोग उम्मीदों पर खरे नहीं:- सिन्हा ने कहा, "मेरे मन में अपने लोगों के बारे में कोई गलत विचार नहीं है, क्योंकि वे मेरे परिवार को पसंद करते हैं। मैं भाजपा में 'भारतरत्न' नानाजी देशमुख, दिवंगत महान प्रधानमंत्री अटल बिहारी वायपेयी और मेरे दोस्त व दार्शनिक, शानदार नेता, गुरु और मार्गदर्शक लालकृष्ण आडवाणी जैसे दिग्गजों के आशीर्वाद और मार्गदर्शन में निखरा।" कांग्रेस में शामिल होने से कुछ देर पहले उन्होंने एक साथ कई ट्वीट किए, "मैं कुछ लोगों के बारे में बात करना चाहूंगा जो उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे हैं, जो अन्याय के लिए जिम्मेदार हैं और लोकशाही को तानाशाही में बदल रहे हैं।" सिन्हा ने कहा, "इस मोड़ पर मैं उन्हें माफ करता हूं और सबकुछ भूल जाता हूं। मेरे और भाजपा के कुछ वर्तमान नेताओं व उनकी नीतियों के बीच जो मतभेद हैं, इस कारण मेरे पास दूसरा रास्ता चुनने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा।" राष्ट्रनिर्माताओं और दिग्गजों की पार्टी:-सांसद सिन्हा ने कहा, "कांग्रेस महात्मा गांधी, (पण्डित जवाहरलाल) नेहरू, (वल्लभ भाई) पटेल जैसे कई महान राष्ट्रनिर्माताओं और दिग्गजों की पार्टी है।" उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि वह जिस सबसे पुरानी पार्टी से जुड़ रहे हैं, वह एकता, समृद्धि, प्रगति, विकास और प्रतिष्ठा के संदर्भ में उन्हें जनता, समाज और देश की सेवा करने का मौका देगी। 'बिहारी बाबू' ने कहा, "मैं उम्मीद और इच्छा जताकर प्रार्थना करता हूं कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष व भारत के आज और कल के सफल चेहरे, बेहद ऊर्जावान, सक्षम, अनुभवी और परखे हुए युवा नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में मैं सही दिशा में कदम बढ़ा रहा हूं। लोकतंत्र जिंदाबाद! लालू और तेजस्वी यादव के राष्ट्रीय जनता दल को कांग्रेस पार्टी का साथ जिंदाबाद। हमारा महान भारत जिंदाबाद। जय हिंद।" इस तरह वर्षों पुरानी भाजपा को भरी मन से अलविदा करते हुए कांग्रेस की रीतिनीति और राहुल गाँधी में अपनी आश्था व्यक्त करते हुए पूरी तरह से अपने को राष्ट्रहित में समर्पित कटे हुए कांग्रेसकी पट्टिका धारण करते हुए सदस्यता ग्रहण की ।