अंतर्राष्ट्रीय स्तनपान सप्ताह पर चेतना जाग्रति का प्रयास !

 

 

अशोकनगर :विश्व स्तर पर बच्चों उनके लालनपालन में तमाम तरह की अनेकों विसंगतियों के चलते और उन्हें दूर करने विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सार्थक प्रयास करते हुए बाल तथा शिशुओं को उनका असली हक़ जो उनके लिए माँ का दूध होता है .यह माँ का दूध उनको उचित और पर्याप्त मात्रा में मिले .जिसके चलते तमाम तरह की बीमारियों से उसको लड़ने की शक्ति प्राप्त हो ,ताकि दुनिया में बाल एवं शिशु मृत्यु दर को कम किया जा सके . इसी उद्देश्य से 'डब्ल्यूएचओ' ने  अंतर्राष्ट्रीय स्तनपान सप्ताह को मानाने के लिए शुरुवात की !जिसके चलते अशोकनगर में भीअंतर्राष्ट्रीय स्तनपान सप्ताह महिला एवंबाल विकास विभाग ने भी जन चेतना जाग्रति के सप्ताह भर पूरे जिले में 'बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ 'के साथ स्तनपान सप्ताह मनाया .वहीं ग्लोरी न्यूज़ ने अपने स्तर पर लोगों में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ और स्तनपान के महत्त्व को सीएमडी एंड एडिटर इन चीफ डॉ.डी.एस.संधु ने न सिर्फ अपने व्याख्यान दिए बल्कि अपना साहित्यक योगदान देते हुए अपनी रचना से जन चेतना विकसित करने का प्रयास भी किया . जो यहाँ "बढ़ते कदम" नाम से प्रस्तुत है .         

 

                 बढ़ते कदम - डॉ.डी.एस.संधु

 

 

 

 

           

 

            "बढ़ते कदम "

 

          बेटी को बढ़ने ,

         बेटी को पढ़ने !

         छोड़ो सारे भ्रम,

          रोको न बढ़ते कदम !! रोको न .....

 

           गर्भों में भ्रूणों को,

           फ़सलों सा पलने !

            बेटी को बेटा -सा ,

            दुनिया में ढ़लने !

           बिटियों को देदो जन्म !! रोको न .....

         

                  आसमां को छूने,

                 पंछी – सा उड़ने !

                 पंख इसके,

                 हों न कभी कम !! रोको न .....

                डॉक्टर ”संधु” कहे,

                बाल मृत्यु के संग

                कुपोषण मिटे !

                नवजात को दो,

                पीला कोलेस्ट्रम !! रोको न .....

 

                 इन्द्रधनुषी रंगों को बच्चे में भरने को,

                सारे टीकों के संग शिशु को एक सौ अस्सी दिन !

                बस माँ कराये अपना दूध सेवन,

                छोड़के  वो सारे कर्म !! रोको न.....

 

              बिटियें जो पढ़ लेंगी,

             जीवन को गढ़ लेंगी!

              रूढ़ियाँ फिर होंगी ख़त्म,

              अपनाओ मानवीय धर्म!! रोको .....  

                              - डॉ. डी.एस.संधु.

                               

                                   संपर्क :  -   

                                        मोबाइल:-919425760379.  email;  drdssandhu@gmail.com