सुख-समृद्धि के लिए किन्नर सम्मेलन !

 

 

 

अशोकनगर :अखिल भारतीय किन्नर सम्मेलन मौसी चाँदनी नायक की अगुआई में स्थानीय अमर मेरिज गार्डन में आयोजित किया जा रहा है।यह सम्मेलन दस दिवसीय है जो 14 से 24 सितम्बर तक होगा। यह भव्य सम्मेलन सुख-समृद्धि की कामना को लेकर किया जा रहा है।जिसमें देवी की स्थापना भी की गई है । किन्नरों के इस अनूठे आयोजन की चर्चा आम लोगों में है ।इस सम्मेलन में 90-100 साल के वृद्ध किन्नर से लगाकर 2वर्ष का नन्हा किन्नर भी शामिल हुआ है ।यह बात विशेष ध्यान देने वाली है कि लोग छोटे मोटे काम के लिए बहुत ही अशिष्टता और बल पूर्वक चँदा वसूली करते नजर आते हैं।किन्तु इतने विशाल सम्मेलन के लिए चाँदनी मौसी और उसके किसी भी किन्नर ने कहीं से एक पैसा भी चँदा नहीं माँगा। दूर -दूर  से आये किन्नर :- हरियाणा, दिल्ली, यूपी,पंजाब ,महाराष्ट्र म.प्र. सहित तमाम दूर से इस आयोजन में सम्मिलित होने किन्नरों का आगमन हुआ है । यह अपने अपने साधनों से आये हैं,जिसमें एक से एक लक्जरी गाड़ियां हैं। वहीं अधिकांश किन्नर स्वर्ण भूषणों एवं पारम्परिक पोषाखों के साथ साथ अतिआधुनिक लिवास में फिल्मी नायिकाओं से भी आगे नजर आ रहे हैं । सांस्कृतिक कार्यक्रम :-इस सम्मेलन में आये तमाम किन्नर अपने अपने फन का प्रदर्शन बहुत ही उत्साह से कर रहे हैं । डीजे की धुन पर यह बारी-बारी देर रात तक अपनी कला के जलवे बिखेरते हुये अतिथियों का मनोरंजन भी कर रहे होते हैं। शान शोकत से निकली शोभा यात्रा :-आयोजन स्थल अमर मेरिज गार्डन से प्रारंभ हो शोभा यात्रा निकाली गई जो विदिशा रोड होती हुई तारवाले बाला जी पर पहुची जहाँ चाँदनी नायक ने अपने साथियों के साथ पूजा अर्चना करते हुये 11किलो वजन का घण्टा,छत्र तथा पोषक आदि  मंदिर में चढ़ाया फिर शहर के प्रमुख मार्गों पर यह भव्यता के साथ शोभा यात्रा आगे बढ़ती गई । सभी वरिष्ठ किन्नर घोड़ा बग्घियों पर विराजमान हुये बहुत ही प्यार से नगरवासियों को सुख-समृद्धि का आशिर्वाद दे रहे थे ,वहीं युवा किन्नर डीजे और बैण्ड बाजों की मधुर धुनों पर थिरकते हुये मन भावन नृत्य कर रहे थे।  किन्नरों का देश में दिल्ली के बाद यह  दूसरा भव्य आयोजन है,वहीँ अशोकनगर के इतिहास में इतना भव्य और विशाल आयोजन है ।शहर में इससे पूर्व ऐसी शोभा यात्रा कभी नहीं निकली।इस शोभा यात्रा का नगर में जगह-जगह लोगों ने अपने अपने स्तर पर स्वागत अभिनंदन किया।बड़ी संख्या में नगरवासी इस शोभा यात्रा में पूरे समय शामिल भी रहे।अंत में यह शोभा यात्रा अपने गंतव्य पर पहुँच कर सुख-समृद्धि की कामना के साथ पूर्ण हुई।चाँदनीं मौसी बन सकती मंडलेश्वर : - आयोजन के अंतिम समय के  तक किन्नर अखाड़े के महामंडलेश्वर लक्ष्मीनारायण  त्रिपाठी के भी आने का संकेत है जिनकी मौजुदगी में  अशोकनगर की किन्नर गुरु चाँदनीं  मौसी को किन्नर मंडलेश्वर बनाये जाना संभव है।चाँदनीं मौसी कक्षा 8तक पढ़ी सुलझी और सामाजिक सोच की तथा मूलरूप से उज्जैन की रहने वाली है।