करतापुर साहिब कॉरिडोर नहीं आज हम सिख भाइयों के लिए अपना दिल खोल रहे हैं- इमरान खान

इस्लामाबाद /करतारपुर​ साहिब

 : शनिवार को सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 550 वीं जयंती से पहले ऐतिहासिक करतारपुर कॉरिडोर का औपचारिक उद्घाटन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने किया। उन्होंने कहा कि आज हम न केवल सीमा खोल रहे हैं, बल्कि सिख समुदाय के लिए अपना दिल भी खोल रहे हैं। इस दौरान उन्होंने अपनी सरकार की तारीफ की और कहा कि उन्हेें नहीं पता था कि उनकी सरकार इतनी कुशल है।रिकॉर्ड समय में जटिल काम को पूरा करने के लिए उन्हें फिर से बधाई देना चाहते हैं।खान ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और क्रिकेटर से राजनेता बने नवजोत सिंह सिद्धू सहित 12,000 से अधिक भक्तों की एक सभा को संबोधित करते हुए कहा 'मुझे एक साल पहले तक करतारपुर के महत्व के बारे में पता नहीं था।गुरु नानक देव ने अपने जीवन के अंतिम 18 वर्ष करतारपुर साहिब में बिताए थे।' खान ने भारतीय सिख तीर्थयात्रियों के पहले जत्थे का स्वागत किया जिन्होंने गलियारे के माध्यम से पाकिस्तान में प्रवेश किया, जो पाकिस्तान में गुरुद्वारा दरबार साहिब को जोड़ता है।क्षेत्रीय शांति के लिए प्रतिबद्धता का प्रमाण:-गुरु नानक देव की 550 वीं जयंती पर सिख समुदाय को बधाई देते हुए प्रधानमंत्री खान ने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर का ऐतिहासिक उद्घाटन क्षेत्रीय शांति के लिए पाकिस्तान की प्रतिबद्धता का प्रमाण है।खान ने इस अवसर पर अपने संदेश में कहा 'हम मानते हैं कि क्षेत्र की समृद्धि और हमारी आने वाली पीढ़ी के उज्जवल भविष्य की राह शांति में है।'खान ने कहा कि उनकी सरकार से सद्भावना का अभूतपूर्व संकेत गुरु नानक देव और सिख समुदाय की धार्मिक भावनाओं के प्रति उनके गहरे सम्मान का प्रतिबिंब है।शटल सेवा उद्घाटन समारोह में पहुंचे:-खान तीर्थयात्रियों द्वारा इस्तेमाल की जा रही शटल सेवा का उपयोग करते हुए गलियारे के उद्घाटन समारोह में पहुंचे। उनके साथ विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी, विशेष सहायक फिरदौस असवान, सीनेटर जावेद खान, प्रधानमंत्री के लिए विशेष सहायक पाकिस्तानी जुल्फी बुखारी और अन्य अधिकारी थे। कुरैशी ने कहा, 'अगर बर्लिन की दीवार को ध्वस्त किया जा सकता है, अगर करतारपुर कॉरिडोर को खोला जा सकता है, तो नियंत्रण रेखा की अस्थायी सीमा भी समाप्त हो सकती है।करतारपुर साहिब कॉरिडोर शुरू:-भारतीय सिख तीर्थयात्रियों के लिए आज शनिवार 9, नवंबर से करतारपुर साहिब कॉरिडोर शुरू हो गया है। भारत और पाकिस्तान ने पिछले महीने एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जिससे करतारपुर गलियारे के उद्घाटन का मार्ग प्रशस्त हुआ। संधि के अनुसार, पाकिस्तान रोजाना 5,000 भारतीय तीर्थयात्रियों को गुरुद्वारा करतारपुर साहिब जाने की अनुमति देगा।