ईसागढ़ एस.डी.एम होंगे सिसोदिया !

अशोकनगर : कलेक्टर आर.बी.प्रजापति द्वारा ईसागढ़ अनुभाग के एस.डी.एम. पुरूषोत्तम शर्मा के सेवानिवृत्त होने के कारण एम.एल.सिसोदिया डिप्टी कलेेक्टर को अनुभाग ईसागढ़ के एस.डी.एम.का प्रभार सौंपा गया है। 

एस.डी.एम. शर्मा की सेवानिवृत्ती पर विदाई !

अशोकनगर : ईसागढ़ अनुभाग के एस.डी.एम.पुरूषोत्तम शर्मा के सेवानिवृत्त होने पर कलेक्टर श्री आर.बी.प्रजापति की उपस्थिति मेंजिला कलेक्टट्रेट कार्यालय के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा भावभीनीं विदाई दी गई। इस अवसर पर अपर कलेक्टर एस.के.सेवले, एस.डी.एम.सुश्री नेहा शिवहरे, डिप्टी कलेक्टर  एम.एल.सिसोदिया एवं कार्यालयीन अधिकारियों तथा कर्मचारियों की ओर से शर्मा का फूल मालाओं से स्वागत किया गया तथा स्मृति चिन्ह भेंट किये गये। डिप्टी कलेक्टर सिसोदिया ने शर्मा के जीवन परिचय के बारे में विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि  शर्मा जनवरी 2013 में डिप्टी कलेक्टर के पद पर अशोकनगर आए। उन्होंने यहाॅं पर विभिन्न शाखाओं के प्रभारी अधिकारी एवं एस.डी.एम.

आंगनबाड़ी में बाल चौपाल संपन्न

अशोकनगर:गणतंत्र दिवस 26 जनवरी के अवसर पर रघुवंशी गली में स्थित आंगनबाड़ी केंद्र पर चार आंगनबाड़ी केन्द्र क्रमांक 44,53,54,58 ने मिलकर सामूहिक रूप से बल चौपाल कार्यक्रम आयोजित किया ।

लाला लाजपत की मूर्ति को भाजपाई "दुपट्टा",पहनाने की विपक्षियों ने की निंदा!

नई दिल्ली:बुधवार को नामांकन भरने से पूर्व भारतीय जनता पार्टी की सीएम पद की उम्मीदवार किरण बेदी ने अपने रोड शो के दौरान स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय की मूर्ती को भाजपा का दुपट्टा पहना दिया। पार्टी के चुनाव चिन्ह कमल के निशान वाले इस दुपट्टे के बेदी द्वारा पहनाए जाने के बाद विवाद पैदा हो गया है।बेदी रोड़ शो में अपने प्रशंसकों के साथ रोड शो में नामांकन भरने जा रही थी। तभी लाला लाजपत की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने पहुंचीं। बेदी ने पहले अपने गले में पड़े पार्टी के निशान वाले दुपट्टे से मफलर से प्रतिमा का चेहरा पोंछा और फिर मूर्ती के गले में डाल दिया। जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया। केजरीवाल सहित कई पार्टियों ने बेद की इस हरकत की निंदा की है।वहीं आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने न कहा कि भाजपा कम से कम स्वतंत्रता सेनानियों को तो बख्श दे। स्वतंत्रता सेनानी सभी पार्टियों के हैं।केजरीवाल के साथ ही आप नेता आशुतोष ने कहा कि आजादी की लड़ाई के वक्त आरएसएस नेता घरों में छिपे थे और

Pages