स्वाईन फ्लू नियंत्रण संबंधी बैठक में दिए आवश्यक निर्देश !

अशोकनगर: कलेक्टर आर.बी.प्रजापति ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में स्वाईन फ्लू नियंत्रण के संबंध में प्रायवेट क्लीनिकों के चिकित्सकों एवं पैरामेडीकल स्टॉफ की बैठक लेकर आवश्यक निर्देश दिए। बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी रामवीर सिंह रघुवंशी, डॉ0 डी.के..जैन एवं  प्रायवेट चिकित्सक और संबंधित अधिकारी उपस्थित थे। कलेक्टर प्रजापति ने कहा कि स्वाईन फ्लू रो ̈ग पर नियंत्रण और प्रभावित लोगों के उपचार के साथ ही रोग के संबंध में उन्हें जागरूक बनाने के प्रयास भी कारगर हो  ̈ रहे हैं। शासकीय अस्पताल ̈के अलावा चिन्हित निजी चिकित्सालय और नर्सिंग-होम में भी रोग उपचार के लिये जरूरी दवाइयाँ और मास्क आदि पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री के स्तर पर निरंतर समीक्षा के साथ ही मुख्य सचिव के स्तर पर गठित समन्वय समिति भी प्रतिदिन र ̈ग पर नियंत्रण और र ̈गिय ̈ं के उपचार की व्यवस्था क ̈ प्रभावी और सघन बनाने की समीक्षा कर रही है। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अध्िाकारी को प्रतिदिन स्वा

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 22 फरवरी को होगा अंतिम चरण का मतदान

 अशोक नगर : जिले में त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन 2014-15 के अंतिम चरण में चंदेरी जनपद पंचायत तथा ईसागढ़ जनपद पंचायत क्षेत्र में 22 फरवरी को मतदान प्रातः 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक होगा। मतदान समाप्ति के तुरंत पश्चात पंच एवं सरपंच पदों की मतगणना होगी। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी आर.बी.प्रजापति ने बताया कि तृतीय चरण में चंदेरी के दो 1⁄47 एवं 8 वार्ड1⁄2, एवं मुंगावली के तीन वार्डों के लिए जिला पंचायत सदस्य तथा चंदेरी एवं ईसागढ़ के 4-4 जनपद पंचायत सदस्यों तथा चंदेरी के 56 एवं ईसागढ़ के 83 ग्राम पंचायतों में पंच एवं सरपंच पदों के लिए निर्वाचन होना है। जनपद पंचायत चंदेरी क्षेत्र में 159 मतदान केन्द्र तथा जनपद पंचायत ईसागढ़ क्षेत्र में 242 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। जनपद पंचायत चंदेरी में कुल मतदाता 77887 हैं, जिनमें 41628 पुरूष एवं 36259 महिला मतदाता शामिल हैं। इसी प्रकार जनपद पंचायत ईसागढ़ में कुल 104161 मतदाता हैं, जिनमें 5503 पुरूष एवं 48658 महिल

क्राइम ब्रांच ने किए मंत्रालय के दस्तावेज लीक करने के आरोप में पांच गिरफ्तार

नई दिल्ली:गुरूवार को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने पांच लोगों को सरकारी दस्तावेज लीक करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इन्हें दस्तावेज लीक करने और अलग- अलग मंत्रालयों के दस्तावेज हासिल करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। इन पर आरोप है कि इन्होंने कई बिजनेस घरानों को गोपनीय सूचना लीक की है। गिरफ्तार किए गए पांच लोगों में से दो मंत्रालय के कर्मचारी हैं, जबकि तीन बिचौलिए शामिल हैं। इनमें से एक ने पत्रकार होने का दावा किया है। इन सभी को गिरफ्तार करने के बाद दिल्ली पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है।हालांकि, इस मुद्दे पर अभी किसी भी तरह की सरकारी प्रतिक्रिया नहीं आई है।मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दिल्ली पुलिस ने गुरूवार दोपहर में शास्त्री भवन में छापा मारा था और पेट्रोलियम मंत्रालय के एक चपरासी और एक क्लर्क को गिरफ्तार किया। प्राप्त सूत्रों के अनुसार दिल्ली पुलिस इन पांचों लोगों पर नजर रखे हुए थी।

नौ माह में कुछ नहीं बदला, कारोबारियों में है बेचैनी - दीपक पारेख

मुंबई:केंद्र सरकार के कामकाज से विकास दर और महंगाई के आंकड़े भले ही आम जन को खुश करें, पर उद्योगजगत इससे निराश है। यूपीए सरकार के कामकाज पर पहला प्रहार कर चुके एचडीएफसी बैंक के चेयरमैन दीपक पारेख ने अब वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने एक साक्षात्कार में बुधवार को कहा कि तेल के दामों में ग्लोबल गिरावट के चलते बीते नौ माह प्रधानमंत्री के लिए खुशकिस्मती से भरे थे, पर जमीनी स्तर पर कोई बदलाव देखने को नहीं मिला।उन्होंने एक साक्षात्कार में बुधवार को कहा कि तेल के दामों में ग्लोबल गिरावट के चलते बीते नौ माह प्रधानमंत्री के लिए खुशकिस्मती से भरे थे, पर जमीनी स्तर पर कोई बदलाव देखने को नहीं मिला। उन्होंने कहा कि आज भी बिजनेस के हालात में कोई सुधार नहीं हुआ है। उद्योगजगत आज भी आशावान है, पर उसका धैर्य टूट रहा है, क्योंकि ये आशावाद राजस्व में तब्दील नहीं हो रहा है।लोकसभा चुनाव के दौरान मोदी ने उद्योगजगत के लिए तेजी से काम कर

नौ माह में कुछ नहीं बदला, कारोबारियों में है बेचैनी - दीपक पारेख

मुंबई:केंद्र सरकार के कामकाज से विकास दर और महंगाई के आंकड़े भले ही आम जन को खुश करें, पर उद्योगजगत इससे निराश है। यूपीए सरकार के कामकाज पर पहला प्रहार कर चुके एचडीएफसी बैंक के चेयरमैन दीपक पारेख ने अब वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने एक साक्षात्कार में बुधवार को कहा कि तेल के दामों में ग्लोबल गिरावट के चलते बीते नौ माह प्रधानमंत्री के लिए खुशकिस्मती से भरे थे, पर जमीनी स्तर पर कोई बदलाव देखने को नहीं मिला।उन्होंने एक साक्षात्कार में बुधवार को कहा कि तेल के दामों में ग्लोबल गिरावट के चलते बीते नौ माह प्रधानमंत्री के लिए खुशकिस्मती से भरे थे, पर जमीनी स्तर पर कोई बदलाव देखने को नहीं मिला। उन्होंने कहा कि आज भी बिजनेस के हालात में कोई सुधार नहीं हुआ है। उद्योगजगत आज भी आशावान है, पर उसका धैर्य टूट रहा है, क्योंकि ये आशावाद राजस्व में तब्दील नहीं हो रहा है।लोकसभा चुनाव के दौरान मोदी ने उद्योगजगत के लिए तेजी से काम कर

Pages