Breaking News

अंडरब्रिज निर्माण हादसे में आईओडब्ल्यू मृत !

अशोकनगर: रविवार को गुना-बीना रेलखंड पर अशोकनगर जिले में पिपरई के पास रेलवे गेट नंबर 29 पर अंडर ब्रिज निर्माण के दौरान मिट्टी धंसकने से एक आईओडब्ल्यू की मौत हो गई है। वहीं 18 मजदूर घायल हुए हैं।गुना-बीना रेलखंड पर अंडरब्रिज निर्माण के दौरान हुए हादसे के पश्चात फिलहाल रेलवे ने अंडर ब्रिज निर्माण को रोक दिया है।रेलवे प्रशासन ने गड्ढे को मिट्टी भरकर समतल कर दिया गया है। जिसके उपरांत ही शाम 6.45 तक रेलवे यातायात बहाल किया जा सका। अंडरब्रिज निर्माण के लिए निर्माण स्थल के पास के गांव देसाईखेड़ा तथा गजरांटांका के मजदूरों को लगाया गया । जिन्हें रविवार सुबह 4.00 बजे ठेकेदार का आदमी काम के लिए बुलाकर ले गया था। रेलवे ट्रेक भी 6.50 बजे से बंद करवा दिया गया था।रविवार को निर्माण के दौरान करीब 18 मजदूरों को गड्ढे में उतारा गया था। वहीं भोपाल से आए सीनियर सेक्शन इंजीनियर एमके जैन तथा कुछ मजदूर ऊपर खड़े थे। करीब 11.15 बजे अचानक जेसीबी के हेड टकरा जाने से मिट्टी

कलेक्टर ने किया चुनाव चिह्नों का आवंटन

अशोकनगर: शनिवार को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दूसरे तथा तीसरे चरण के लिए नाम वापसी का अंतिम दिन था। जिला पंचायत के आठ वार्डो के लिए 122 अभ्यर्थियों ने नामांकन पत्र भरा था, जिनमें से कई अभ्यर्थियों ने नाम वापस ले लिया। अब मात्र  96 उम्मीदवार ही  मैदान में हैं।नाम वापसी के उपरांत  बचे अभ्यर्थियों को कलेक्टर आरबी प्रजापति ने चुनाव चिन्हों का आवंटन भी कर दिया है।उल्लेखनीय है कि पंचायत चुनाव के दूसरे चरण में अशोकनगर जनपद और तीसरे चरण में चंदेरी एवं  ईसागढ़ जनपद पंचायत में चुनाव होना है। इसके लिए जिला पंचायत के वार्ड एक से आठ तक के लिए जिला पंचायत सदस्य बनने के लिए शेष उम्मीदवार जोर लगाएंगे। नाम वापसी के पश्चात  वार्ड नम्बर एक से 12, वार्ड नम्बर दो से सात, इसी क्रम में तीन से 11, चार से 22, पांच से 14, छह से 10, सात से 12 तथा वार्ड नंबर आ

आपदा से निपटने बनाएं कार्ययोजना- एएसपी चौहान

अशोकनगर। आपदा से पहले आपदा प्रबंधन की तैयारी की जाए। जिले की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए विस्तृत कार्य योजना तैयार करें, ताकि किसी भी आपदा से आसानी से निपटा जा सके। यह बात एएसपी विनोद कुमार सिंह चौहान ने आपदा प्रबंधन कार्यशाला के शुभारंभ अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में कही।
उन्होंने कहा कि कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य प्राकृतिक आपदाओं एवं दुर्घटनाओं के समय कैसे निपटा जाए, क्या तैयारी हो, अकल्पित घटनाओं के घटित होने पर क्या-क्या नुकसान होगा? इसका पूर्वानुमान लगाना है। किसी भी आपदा या घटना से निपटने के लिए सभी कारगर उपाय कैसे किए जाएं, इस पर विचार कर रणनीति तैयार करने के निर्देश उन्होंने दिए।

सुनंदा से मिलने दो दिन पूर्व आया था "साहब"

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की ओर से सुनंदा पुष्कर हत्या मामले में गठित एसआईटी ने शुक्रवार को लीला होटल के कर्मचारियों से पूछताछ की। साथ ही जिस कमरे में सुनंदा की लाश मिली थी उसकी भी जांच की। सुंनदा पुष्कर का शव विगत वर्ष लीला होटल के रूम नंबर 345 में मिला था।;इससे पूर्व पांच सदस्यीय एसआईटी टीम ने गुरूवार को पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता शशि थरूर के नौकर नारायण सिंह से छह घंटों तक पूछताछ की थी।एसआईटी ने उससे गुरूवार को दक्षिण दिल्ली के हौज खास पुलिस स्टेशन में बात की। उसे जांच में शामिल होने के लिए नोटिस दिया गया था जिसके बाद वह हिमाचल प्रदेश में अपने गांव से गुरूवार सुबह आया था। जानकारी के अनुसार उसने बताया कि, 17 जनवरी को शशि थरूर ने उसे कुछ कागजों के साथ बुलाया था। जब वह सुइट में घुसा उस समय सुनंदा पुष्कर सो रही थीं। उसके बाद वह कमरे में नहीं गया और रात नौ बजे उसे मौत की खबर का पता चला। नारायण ने साथ ही बताया कि मौत से दो दिन पहले सुनंदा से मिलने के लिए एक व्यक्ति होटल में आया था। इस व्यक्ति का नाम सुनील साहब बताया जा रहा है।वहीं इस मामले में दर्ज

"समझौता" कर फांसी से बच गया आतंकी !

"समझौता" कर फांसी से बच गया आतंकी !लाहौर:  फांसी से कुछ समय पूर्व ही पाकिस्तान में एक आतंकी "समझौता" कर मौत की सजा पाने से बच गया। फैसलाबाद की आतंकरोधी कोर्ट ने इकराम उल उर्फ अकरम लाहौली को 2011 के इमाम बारगाह में शोरकोट हत्याकांड में फांसी की सजा सुनाई थी। इमराम को फांसी देने से पूर्व ही उसके घरवाले कोट लखपत जेल पहुंचे और इकराम के विरुद्ध शिकायत करने वाले से "समझौता" कर लिया। इसके पश्चात् ;जेल अधिकारियों को इकराम की फांसी रोकनी पड़ी।इकराम के वकील गुलाम मुस्तफा ने कहा कि उसकी फांसी के लिए वारंट जारी होने के उपरांत उसके परिवार ने शिकायतकर्ता से बात की और दोनों पक्षों ने समझौता किया और कोट लखपत जेल में उसकी फांसी टाल दी गई।  वह पूर्व संघीय मंत्री मोइनुद्दीन हैदर के भाई सहित 21 लोगों की हत्या के मामले में भी दोषी है। उस पर इस्लामाबाद में ईरानी कैडेटों और ईरानी राजनयिक सादिक गंजी की हत्या का भी आरोप है। उसके विरुद्ध ब्लैक वारंट जारी हो चुका था

Pages