Politics

सीपीएम मनाएगी 'रामायण महीना' !

सीपीएम(मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ) केरल राज्‍य समिति ने 'रामायण महीना' मनाने का निर्णय लिया है। अब मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी भगवान राम की शरण में जाती नजर आ रही है। पार्टी 25 जुलाई को रामायण पर एक सम्मेलन आयोजित कर रही है। रामायण महीने को बूथ स्‍तर तक मनाने के लिए पूरे राज्‍य में रामायण पर कक्षाएं आयोजित करने का फैसला लिया गया है। पार्टी के छात्र विंग एसएफआई(स्‍टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया) के पूर्व अध्‍यक्ष और अब पार्टी की राज्य समिति के सदस्य शिवदासन को इस आश्चर्यजनक मिशन का प्रभार दिया गया है।

विधानसभा चुनाव की आहट कर्नाटक मेंई सी ने किये आई.पी.एस.के ट्रांसफर

विधानसभा चुनाव की आहट कर्नाटक में सुनाई देने लगी है। चुनाव आयोग के आदेश पर प्रदेश में 18 आइपीएस(भारतीय पुलिस सेवा) अधिकारियों का ट्रांसफर किया गया है। कनार्टक में चुनाव आयोग की ओर से अभी तक मतदान की तिथि का एलान नहीं किया गया है। 

देश में नहीं थम रहा मूर्तियां तोड़ने का सिलसिला !

त्रिपुरा में भाजपा की जीत के बाद 1917 की रूसी क्रांति के नायक व वामपंथ के प्रणेता व्लादिमीर लेनिन की प्रतिमा ढहाने जाने के बाद तमिलनाडु के वेल्लोर में समाज सुधारक इवीआर रामास्वामी 'पेरियार' की मूर्ति को नुकसान पहुंचाया गया है। उसके बाद कोलकाता में भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा तोड़ी गई और उसपर कालिख पोत दी गई और अब गांधी की प्रतिमा को क्षति पहुंचाई गई है।प्रतिमा के बदले प्रतिमा तोड़ने की सियासत उबाल पर है।अतः आवश्यक है कि जितनी जल्दी हो सके इस कुरीति को रोका जाये।वहीं इस में लिप्त लोगो के पीछे छुपे चेहरों की पहचान करके कठोरतम दंड दिया जाये।

सिंधिया का अजय तिलिस्म नहीं तोड़ पाये मामा और उनके सेनापति !

कांग्रेस के विधायक महेंद्र सिंह कालूखेड़ा के निधन के बाद खाली हुई सीट पर विधानसभा क्र. 034 मुंगावली उप चुनाव में वैसे तो 10 निर्दलियाँ सहित यहां 13 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे, जिसमें मुख्य मुकाबला भाजपा की बाई साहब यादव और कांग्रेस के बृजेंद्र सिंह के बीच था।मुंगावली में कांग्रेस प्रत्याशी ने जितने अंतर से चुनाव जीता, उससे ज्यादा वोट मतदाताओं ने नोटा में डाले। 2 हजार 253 मतदाताओं ने चुनाव मैदान में खड़े सभी उम्मीदवारों को नकारते हुए नोटा में मतदान किया। वहीं, कोलारस में 756 मतदाताओं ने नोटा में मत देकर अपना विरोध दर्ज कराया।

Pages