M.P.

बिजली बिल माफी योजना का शुभारंभ

पंजीकृत श्रमिकों के मासिक बिलों के लिए सरल बिजली बिल स्कीम एवं मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी स्कीम का शुभारंभ 03 जुलाई को प्रदेश के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान द्वारा भोपाल के करोद से करेगें।

आप सब मुझे सदैव याद आयेंगे- जामोद

अशोकनगर कलेक्टर बी.एस.जामोद का तबादला हो गया है तो लोगों के चेहरे मायूस हो जाते । यह प्रथम अवसर है जब जिले के अवाम को किसी अधिकारी के जाने कितना दुःख हुआ हो । इसके पीछे कारण देखा जाये तो स्पष्ट होता है इनकी कार्यशैली इतनी सुलझी हुई थी की कभी किसी को न तो निराश किया और न ही  कभी अपने ऊपर अधिकारी होने का घमंड ही हावी होने दिया । जब तक यह अशोकनगर रहे आये दिन कोई न कोई नवाचार ही देखने को मिलता रहा । 

निवृतमान कलेक्टर जामोद का ऐतिहासिक विदाई समारोह !

आमजन के कलेक्टर  बी.एस.जामोद का स्थानांतरण उप सचिव स्‍कूल शिक्षा विभाग भोपाल के पद पर होने पर जिला प्रशासन की ओर से उनका मंगलवार को ऐतिहासिक विदाई समारोह राजश्री गार्डन में किया गया ।वहीं नवागत कलेक्टर डॉ.मंजू शर्मा का स्वागत किया गया। इस अवसर परस्‍थानांतरित कलेक्‍टर  बी.एस. जामोद को शॉल, श्रीफल एवं स्‍मृति चिन्‍ह भेंटकर भावभीनी विदाई दी गई।विदाई समारोह को संबोधित करते हुए निवृतमान कलेक्टर श्री बी.एस.जामोद ने कहा कि अशोकनगर जिले को विकास का मॉडल बनाने का श्रेय अधिकारियों, कर्मचारियों सहित मीडिया को जाता है। सभी ने टीम भावना के साथ कार्य कर जिले को नई ऊचाईयों तक पहुचाया है। 

जियो की बैट्री में हुआ बिस्फोट !

 ग्लोरी न्यूज़ कार्यालय में दोपहर के समय अचानक से जियो फाई थ्री डिवाइस की बैट्री में जोर का धमाका हुआ और देखते -देखते डिवाइस की बैट्री धधकता हुआ आग का गोला बन गई। पूरी घटना इस प्रकार से है कि ग्लोरी न्यूज़ के ऑफिस में इसके एडिटर इन चीफ डॉ.डी. एस. संधु बैठे कुछ रहे थे कि उनको अपनी जेब में रखी जियो फाई थ्री गर्म होती महशूस हुई ,जिसको उन्होंने बाहर निकालकर देखा तो वह अत्यंत गर्म हो रही थी। अतः डॉ संधु ने अविलम्ब बैट्री निकलकर डिवाइस से अलग करके रखी ही थी की उसमें पहले अजीब सी आवाज के साथ रंगीन आतिशबाजीजैसा धुआं निकलता नज़र आया। जब तक कुछ समझ पाते तब तक एक जोर का बिस्फोट करती हुई बैट्री आग के गोले में परिणित हो गई। जिसे बमुश्किल पानी डालकर बुझाने का प्रयास किया। यदि डिवाइस समय पर बैट्री से पृथ्क नहीं करते तो निश्चित ही कुछ भी गंभीर हादसा घटित हो सकता था।​

सिंधिया का अजय तिलिस्म नहीं तोड़ पाये मामा और उनके सेनापति !

कांग्रेस के विधायक महेंद्र सिंह कालूखेड़ा के निधन के बाद खाली हुई सीट पर विधानसभा क्र. 034 मुंगावली उप चुनाव में वैसे तो 10 निर्दलियाँ सहित यहां 13 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे, जिसमें मुख्य मुकाबला भाजपा की बाई साहब यादव और कांग्रेस के बृजेंद्र सिंह के बीच था।मुंगावली में कांग्रेस प्रत्याशी ने जितने अंतर से चुनाव जीता, उससे ज्यादा वोट मतदाताओं ने नोटा में डाले। 2 हजार 253 मतदाताओं ने चुनाव मैदान में खड़े सभी उम्मीदवारों को नकारते हुए नोटा में मतदान किया। वहीं, कोलारस में 756 मतदाताओं ने नोटा में मत देकर अपना विरोध दर्ज कराया।

Pages