World

अभिव्यक्ति की आजादी का मतलब दूसरों का अपमान नहीं - पोप फ्रांसिस

फिलिपींस:;पोप फ्रांसिस ने कहा कि अभिव्यक्ति की सीमा की एक सीमा होती है, खासकर जब वह किसी और के धर्म का मजाक या अपमान करे। पोप ने यह बात गुरूवार को अपने विशेष विमान से फिलिपींस जाते हुए पत्रकारों से पेरिस में हुए आतंकी हमले के संबंध में कही।हालांकि, पोप ने कहा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रा न सिर्फ एक मौलिक अधिकार है, अपितु अपनी बात रखने की जिम्मेदारी भी होती है। लेकिन, इसकी भी एक सीमा होती है। आप किसी और के धर्म का अपमान नहीं कर सकते, न ही आप किसी को उकसा सकते हो।पेरिस पर हुए आतंकी हमले की निंदा करने वाले पोस से पत्रकारों ने धर्म मानने की आजादी और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बीच रिश्तों को लेकर सवाल पूछा था। इसपर पोर ने कहा कि मेरा मानना है कि यह दोनों बाते मौलिक अधिकार हैं।श्रीलंका से फिलिपींस जाते हुए पोप ने कहा कि हर व्यक्ति को अपना धर्म मानने का अधिकार है, ठीक उसी तरह अभिव्यक्ति की आजादी भी एक मौलिक अधिकार है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं की आप दूसरे धर्म का अपमान या मजाक उड़ाएं।

टेबलेट उपयोग कर्ता हो जाएँ सावधान !

 न्यूयॉर्क: यदि टेबलेट अथवा आप अन्य कई तरह के आईपेड उपयोग करते हैं तो यह समाचार आपके लिए चौंकाने वाला हो सकता  है। क्योंकि इनके उपयोग से आपको अस्पताल जाना पड़ सकता है। ऎसा हाल ही में हुई एक शोध में सामने आया है।इस शोध  के अनुसार  एप्पल आईपेड अथवा अन्य डिवाइसेज जो निकेल धातु से बनी हो वो आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकार हो सकती है। इस धातु से बने टेबलेट, फोन, लेपटॉप अथवा अन्य गेजेट्स से एलर्जिक बीमारियां होने की संभावना बनी रहती है।गौरतलब है कि एप्पल आईपेड को बनाने में निकेल धातु का ही उपयोग किया जाता है और यह आपको एलर्जिक बीमारी दे सकता है। क्योंकि हाल ही में एक ऎसा केस सामने आया है।पिडियाट्रिसियनके अनुसार  रोजाना एप्पल आईपेड यूज करने वाले एक 11 वर्षीय लड़के को खुजली होने की बीमारी के चलते अमरीका के सेन डिएगो अस्पताल में भर्ती कराया गया। जांच में सामने आया कि उसें यह बीमारी आईपेड उपयोग करने से लगी है क्योंकि वह निकेल धातु से बनी हुई थी।वहीं रेडि च

Pages