Breaking News

शिक्षण संस्थान सितंबर माह से खुल सकते !

 केंद्र सरकार के मिले ताजा संकेत इस ओर इशारा कर रहे हैं कि 1 सितंबर 2020 से चरणबद्ध तरीके से शिक्षण संस्थान खोले जा सकते हैं। 

प्रतिबंधित गतिविधियों को सशर्त प्रारंभ करने कलेक्टर ने दिये आदेश !

अशोकनगर : कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट डॉ.

प्रतिबंधित गतिविधियों को सशर्त प्रारंभ करने कलेक्टर ने दिये आदेश !

अशोकनगर : कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट डॉ.

कलेक्टर ने मृतक के परिवार को दी 8लाख 25 हजार की आर्थिक सहायता !

अशोकनगर : जिले के थाना बहादुरपुर क्षेत्र के ग्राम कुलुआ चक्क में विगत दिनों हुए विवाद में खुमान सिंह आदिवासी की मृत्यु हो जाने तथा मकान जल जाने से बेघर हुए पीडि़त परिवार के बीच पहुंचकर जिला कलेक्टर डॉ.मंजू शर्मा ने पीडि़तों को ढांढस बधाया एवं मृतक की पत्नि श्रीमति सावित्री बाई आदिवासी को 08 लाख 25 हजार रूपये तथा 04 अन्य घायलों को 75-75 हजार रूपये की आर्थिक सहायता राशि अनुसूचित जाति एवं जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत स्वीकृत कर चैक प्रदान करते हुये उन्होंने कहा कि इस दुख: की घड़ी में शासन प्रशासन आपके साथ है। अतःशासन प्रशासन द्वारा पीडि़त परिवारों के लिए हर संभव मदद की जायेगी। उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिस एवं जिला प्रशासन द्वारा निष्पक्ष जांच की जाकर दोषियों के विरूद्ध के कार्यवाही की जायेगी। घटनास्थल का लिया जायजा:- कलेक्टर डॉ मंजू शर्मा द्वारा शनिवार को कुलुआ चक्क पहुंचकर आगजनी की घटना से जले हुए मकान स्थल का निरीक्षण कर जायजा लिया।पीड़ितों को किया चेक प्रदाय:- कलेक्टर डॉ मंजू शर्मा ने पीड़ित परिवार से मिलकर उन्हें जिला रेडक्रॉस सोसायटी के माध्यम से 25 हजार रूपये का चेक मौके पर सौंपा। साथ ही उन्होंने खाद्य सामग्री का वितरण पीड़ित परिवार को किया। ग्रामीणों की मौके पर ही मांग स्वीकृत:- कलेक्टर डॉ मंजू शर्मा ने ग्रामीणों की मांग पर मौके पर ही एक हैंडपंप लगाए जाने की स्

ई-टिकिट ही अब ई-पास के रुप में होगा मान्य !

भोपाल : विश्व व्यापी नोवोल19 कोरोना महामारी के चलते देश कितने ही दिनों से लॉगडाउन की स्थिति से त्रस्त चल रहा है ।इसके मध्यनजर केन्द्र शासन ने नवीन दिशानिर्देश जारी किये हैं ,जिसके अनुसार 25 मई से हवाई परिवहन और एक जून से रेल परिवहन प्रारंभ करने की अनुमति दी गई है। इससे राज्य के बाहर से आवागमन संभव है। अपर मुख्य सचिव एवं प्रभारी स्टेट कंट्रोल रूम आई.सी.पी. केशरी ने जानकारी दी है कि यह यात्राएँ ई-टिकिट द्वारा ही की जायेंगी। अत: इन्हें ई-पास के रूप में मान्य किये जाने का निर्णय लिया गया है। यह ई-पास अपने निवास से रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट और यहाँ से निवास तक के लिये मान्य होगा। ई-टिकिट में आवेदक के सभी विवरण दर्ज होते हैं।उल्लेखनीय है कि ई-पास की सुविधा में ढील देते हुए केवल इंदौर, भोपाल एवं उज्जैन से जाने वाले नागरिकों के लिये ई-पास की सुविधा अनिवार्य की गई है। शेष जिलों में आवागमन के लिये ई-पास की आवश्यकता नहीं है। इसके अतिरिक्त प्रदेश से बाहर जा रहे या अन्य प्रदेशों से मध्यप्रदेश आ रहे व्यक्तियों को ई-पास की सुविधा पूर्ववत् जारी रहेगी।

Pages